Small Investment: बच्चों के सुनहरे भविष्य के लिए मात्र ₹45 रूपये हर महीने निवेश करके 18 से 25 साल बाद बनेगा लाखों का बजट

2/5 - (3 votes)

गांवों में रहने वाले किसानों और मध्यमवर्गीय परिवारों को अपने दैनिक खर्चों को पूरा करने के लिए बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। भले ही इससे उनकी बेटी और बेटे की शादी का खर्च निकल जाए, लेकिन यह उनके लिए किसी पहाड़ पर चढ़ने से कम नहीं है। आज हम गांव के मध्यम और निम्न वर्गीय परिवारों के लिए इसी समस्या का समाधान लेकर आए हैं। अगर इन परिवारों के मुखिया अपनी बेटियों के नाम पर हर दिन सिर्फ 45 रुपये भी बचा लें तो शादी का खर्च आसानी से पूरा हो जाएगा।

Investment करके अपनी बच्चों का सपना सच करें

ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले किसानों और मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए, उनकी बेटी की शादी का खर्च एक महत्वपूर्ण मुद्दा है जिसके बारे में सोचने पर लोग अक्सर चिंतित हो जाते हैं। लेकिन सावधानीपूर्वक निवेश योजना से आप इस चुनौती से आसानी से पार पा सकते हैं।

इस प्रकार की इन्वेस्टमेंट वाली योजना में सबसे अहम बात है नियमितता। बेटी के जन्म होते ही इस योजना को शुरू कर देना चाहिए और हर महीने इस योजना में एक छोटी रकम का निवेश करते रहें। इससे आपको बेटी की शादी के समय ज्यादा आर्थिक सहायता मिल सकेगी तथा बिना किसी बड़े परेशानी और बोझ के आप अपनी बेटी की शादी ब्याह के ख्वाबों को बहुत अच्छे से पूरा कर सकेंगे।

कैसे शुरू करें इन्वेस्टमेंट?

इन्वेस्टमेंट शुरू करने के लिए आपको किसी सलाहकार की आवश्यकता नहीं है। इसके लिए आप अपने बैंक में जाइए जहां पर आपका कोई भी खाता खुला हुआ है और वहां जाकर आप एक डीमैट अकाउंट खुलवा लें। और अपने बैंक के कर्मचारियों से कहें कि वह आपका SIP ऑन कर दें। जब आपका SIP ऑन हो जाएगा तब आप हर दिन उसमे ₹45 इन्वेस्ट करते रहे। महीने मैं लगभग यह रकम 1200 रुपए के आसपास होती है। अगर आप यह इन्वेस्टमेंट नियमित रूप से करते रहते हैं तो एक समय बाद यह एक बहुत बड़ा अमाउंट हो जाएगा। इस तरीके से आप अपनी बेटी की शादी को धूमधाम से कर सकते हैं।

25 वर्षों में एक शादी का खर्च कितना होगा?

चाहे ग्रामीण क्षेत्र हो या शहरी, बेटियों की शादी औसतन 25 साल की उम्र में होने लगती है। अधिकांश माता-पिता अपने बच्चों की शिक्षा पूरी करने के बाद ही शादी करते हैं। ऐसे में अगर आप अपनी बेटी के जन्म के साथ ही निवेश करते हैं तो आपके पास अभी भी लगभग 25 साल हैं। हां, महंगाई के कारण इस दौरान शादी का खर्च भी बढ़ेगा। चलिए इसका भी हिसाब लगा लेते हैं.

मान लीजिए किसी गांव में शादी का मौजूदा खर्च 5 लाख रुपये है। मौजूदा महंगाई दर भी 6 फीसदी के आसपास है। अगर हम इसी दर से चलते रहे तो 25 साल बाद शादी का खर्च 21,45,935 रुपये होगा। अगर राउंड नंबर में देखा जाए तो यह करीब 22 लाख रुपये होगी। इसका मतलब है कि 25 साल बाद आपकी बेटी की शादी में लगभग 22 लाख रुपये का खर्च आएगा।

महंगाई का भी असर नहीं पड़ेगा

दरअसल, जब भी हम कोई निवेश तैयार करते हैं तो सबसे बड़ी मुश्किल महंगाई को मात देने की होती है। इसका मतलब यह है कि अगर आपको हर साल एफडी पर 7% ब्याज मिल रहा है और मुद्रास्फीति दर 6% है, तो इसका मतलब है कि प्राप्त 6% ब्याज रिटर्न का उपयोग मुद्रास्फीति अंतर को कवर करने के लिए किया जाएगा। इस तरह आपका नेट रिटर्न सिर्फ एक फीसदी है। इसलिए, हमें ऐसे निवेश विकल्पों की तलाश करनी चाहिए जो मुद्रास्फीति को मात देकर पैसा बनाने की क्षमता रखते हों।